भारत रिलीज करने जा रहा 11 पाकिस्‍तानी कैदी




ve sleep parameters were measured using polysomnography with four nights of recordings (two weeks apart). कजाकिस्‍तान की राजधानी अस्‍ताना में शंघाई को-ऑपरेशन संघटन (SCO) में पीएम नरेंद्र मोदी की नवाज शरीफ के साथ अनौपचारिक बातचीत के बाद मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक भारत सोमवार को 11 पाकिस्‍तानी कैदियों को रिहा करने जा रहा है. अधिकारियों के मुताबिक भारत ‘सद्भावना’ के तहत ऐसा करने जा रहा है. दरअसल पाकिस्‍तान ने इस आधार पर इनकी रिहाई की मांग की थी कि ये सभी कैदी अपनी सजा पूरी कर चुके हैं. हाल में कुलभूषण जाधव मामले में तनातनी के बाद भारत की तरफ से यह पहला बड़ा कदम है. भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव पर जासूसी का आरोप लगाते हुए पाकिस्‍तानी मिलिट्री कोर्ट ने उनको फांसी की सजा सुनाई है. भारत ने इस मुद्दे पर अंतरराष्‍ट्रीय न्‍यायालय (ICJ) का दरवाजा खटखटाया है और मामला वहां लंबित है.

buy Lyrica online यह रिहाई इस मामले में भी अहम है क्‍योंकि अस्‍ताना में एससीओ सम्‍मेलन से इतर पीएम नरेंद्र मोदी और पाक पीएम नवाज शरीफ की अनौपचारिक भेंट हुई थी. पीएम मोदी ने शरीफ से उनकी सेहत का हाल-चाल पूछा और उनकी मां एवं परिजनों की कुशलक्षेम पूछी. सूत्रों के मुताबिक नवाज शरीफ के ऑपरेशन के बाद पीएम मोदी की उनसे पहली मुलाकात थी इसलिए उनके स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में हाल-चाल लिया.

Not receiving milk at this stage can cause them to be more susceptible to the flu or to develop asthma. रिहाई के मामले में भारतीय अधिकारियों का कहना है कि मानवीयता के आधार पर इन कैदियों को रिहा किया जा रहा है. सरकार को आशा है कि इसके बाद पाकिस्‍तान भी ऐसे भारतीय कैदियों को रिहा कर देगा जिनकी वहां सजा पूरी हो चुकी है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्‍तानी जेलों में 132 भारतीय कैदी हैं. इनमें से 57 अपनी सजा पूरी कर चुके हैं. पाकिस्‍तान का कहना है कि उनकी रिहाई से पहले भारत को उनकी राष्‍ट्रीयता के संबंध में पुष्टि करनी होगी.

Related Post

अमेरिकी विश्वविद्यालय जेनेटिक्स के क्षेत्र में एम्स, कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज के साथ काम करेगाअमेरिकी विश्वविद्यालय जेनेटिक्स के क्षेत्र में एम्स, कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज के साथ काम करेगा



ve sleep parameters were measured using polysomnography with four nights of recordings (two weeks apart). वाशिंगटन, अमेरिका का एक शीर्ष विश्वविद्यालय दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और मणिपाल (कर्नाटक) के कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज के साथ साझेदारी कर भारत में आनुवांशिक परीक्षण (जेनेटिक टेस्टिंग)

चीन से भारत को 1.7 लाख पीपीई मिलेचीन से भारत को 1.7 लाख पीपीई मिले



नयी दिल्ली, कोरोना वायरस के संक्रमण के इलाज में चिकित्साकर्मियों के इस्तेमाल में आने वाले निजी सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) की 1.7 लाख किट चीन से भारत को सोमवार को मिल